356 Views

ये बात जगदेव बाबू के मुंह से सुनी थी. फिलहाल देख भी रहा हूँ. प्रधानमंत्री और शिक्षा मंत्री की डिग्री तो आप ढूंढते रहिए. फिलहाल पिछले दिनों में जेल गए लोगों की शिक्षा का स्तर जान लीजिए-
1.शाह फैसल- IAS officer #PSA
2. डॉ. कफील – MBBS #रासुका
3. रामचन्द्र गुहा – Eminent Historian #डिटेन
4. कन्नन गोपीनाथन – IAS officer #डिटेन
5. चंद्रशेखर आजाद रावण – LLB #रासुका
6. 11 छात्र BHU – University Students #पब्लिक_न्यूसेंस के लिए जेल
7.प्रशांत भूषण – Eminent lawyer of Supreme court #डिटेन
8.योगेंद्र यादव – Senior fellow of CSDS, JNU #डिटेन
9. कन्हैया कुमार – Phd #डिटेन

इनके अलावा अनगिनत छात्रों, प्रोफेसरों, पत्रकारों, एक्टिविस्टों को बसों में ठूंस ठूंसकर अजनबी जगहों पर ले जाकर डिटेन किया गया है, उनकी लिस्ट निकालना तो मेरे लिए सम्भव भी नहीं है। सरकार इन्हें राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा मानती है.

सत्ता का नँगा नाच कर रहे संघ के सामने विश्वविद्यालय, कॉलेजों, डॉक्टरों, प्रोफेसरों, छात्रों की पढ़ी-लिखी पीढ़ी, लोकतंत्र की प्रथम सुरक्षा पंक्ति की तरह खड़ी हो गई है, जिसे दबाने में संघ का पूरा नंगपना बाहर आ चुका है. जब क्रिमिनल गृहमंत्री हो, दंगाई मुख्यमंत्री हो,और अनपढ़ प्रधानमंत्री हो तो पढ़े-लिखे नागरिकों से खतरा तो होना ही था…

गांव में कहावत थी भेड़िए की जब मौत आती है गांव की तरफ ही भागता है. इनके अत्याचार का अंत भी नजदीक ही है… बहुत नजदीक है..

~ Shyam Meera Singh