204 Views

माँ कहती है सुन मेरी रानी
तुझे सुनाऊँ नई कहानी
जो कहती थी दादी नानी
वो तो अब हो चलीं पुरानी।

न तो तू कोई राज कुमारी
न परियों की तू शहज़ादी
तू वो हिस्सा है दुनिया का
जो लगभग आधी आबादी।
नहीं ज़रूरत तुझे भीख की,
छीन के ले अपनी आज़ादी।
जी ले खुल के तू मस्तानी…माँ कहती है…

मैंने तुझे कोख में पाला
ये कोई अहसान नहीं है।
तू मेरी औलाद हमेशा,
तू कोई सामान नहीं है।
तेरा मालिक परमेश्वर है,
और कोई इंसान नहीं थहै

जा छू ले आसमां दीवानी… माँ कहती है…

अनुपमा गर्ग के ब्लॉग से….